Hindi world london, chinese embassy, Baloch activists, Bluch, China-Pakistan corridor http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/baluch-activist.jpg

आर्थिक गलियारे की आड़ में बलूचिस्तान को लूटना चाहते हैं चीन-पाक: बलूच कार्यकर्ता

आर्थिक गलियारे की आड़ में बलूचिस्तान को लूटना चाहते हैं चीन-पाक: बलूच कार्यकर्ता

    |
  • Updated
  • :
  • Tuesday, October 4, 2016 - 09:37
London, Chinese Embassy, Baloch activists, Bluch, China-Pakistan corridor

China-Pak wants rob Balochistan with economic corridor says Baloch activists

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
आर्थिक गलियारे की आड़ में बलूचिस्तान को लूटना चाहते हैं चीन-पाक: बलूच कार्यकर्ताChina-Pak wants rob Balochistan with economic corridor says Baloch activistsTuesday, October 4, 2016 - 09:37+05:30
लंदन. जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बलूचिस्तान की चर्चा की है, जब से बलूचिस्तान के लोगों में खासा उत्साह देखा गया है. मोदी के मुंह से बलूचिस्तान शब्द के निकलने के बाद वहां के हर हाल में खुद को पाकिस्तान से अलग करना चाहते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इसी कड़ी में सोमवार को ब्रिटेन में चीनी दूतावास के सामने बलूच कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया और कहा कि वे चीन-पाकिस्तान के बीच बन रहे आर्थिक गलियारे को नहीं मानेंगे. कार्यकर्ताओं का कहना है कि बीजिंग और इस्लामाबाद के बीच हुई इस संधि का एकमात्र उद्देश्य संसाधन संपन्न बलूचिस्तान को लूटना है.
 
बलूच कार्यकर्ताओं ने आगे कहा, 'बलूचिस्तान को अपना हिस्सा समझने की गलती न करे. बलूचिस्तान पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है. हमारे संसाधनों को लूटा जा रहा है. यहां तक की प्रशासन ने राज्य में बड़ी संख्या में फौज को भी तैनात कर दिया है. चीन-पाकिस्तान के बीच हो रहा आर्थिक गलियारे का समझौता पूरी तरह से गैरकानूनी है.'
First Published | Tuesday, October 4, 2016 - 09:37
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.