Home » World » अमेरिका के नियंत्रण से आजाद हो गया इंटरनेट

अमेरिका के नियंत्रण से आजाद हो गया इंटरनेट

अमेरिका के नियंत्रण से आजाद हो गया इंटरनेट

By Web Desk | Updated: Monday, October 3, 2016 - 14:59
america, icann, internet, control on internet, internet world, virtual world

america cannot control internet now

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
नई दिल्ली. इंटरनेट की दुनिया अमेरिका के नियंत्रण से आजाद हो गई है. इंटरनेट कॉरपोरेशन फॉर असाइंड नेम्स एंड नंबर्स (आईसीएएनएन) के साथ अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय का अनुबंध शनिवार को खत्म हो गया. आईसीएएनएन डोमेन मैनेजमेंट और आईपी एड्रेस वितरण जैसे काम संभालती है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अमेरिकी सरकार का एकाधिकार खत्म होने के बाद इसमें शिक्षाविद, विशेषज्ञ, नेटवर्क ऑपरेटर, निजी कंपनियों, उपभोक्ताओं, सरकारी और गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों का हस्तक्षेप बढ़ेगा. आईसीएएनएन के नियंत्रण मुक्त होने से उपभोक्ता सीधे तौर पर प्रभावित नहीं होंगे लेकिन इंटरनेट की दुनिया में स्थायित्व और पारदर्शिता के लिहाज से यह फैसला अहम है. इंटरनेट के भविष्य की तकनीकों और नीतियों पर इसका प्रभाव देखने को मिल सकता है. 
 
कैलिफॉर्निया स्थित आईसीएनएन एक गैर लाभाकारी संगठन है. यह इंटरनेट का एड्रेस सिस्टम संभालती है. डोमेन नेम उपलब्ध कराना इसी संगठन का काम है. यह पूरी दुनिया में लाखों वेबसाइट ट्रैक करती है. अभी तक इस पर अमेरिका का नियंत्रण था.
 
अमेरिका के सहयोग से हुआ था गठन 
दरअसल, इंटरनेट को संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर सरकारी संगठन से मुक्त रखने के लिए अमेरिकी सरकार ने वर्ष 1998 में आईसीएएनएन के गठन में सहयोग किया थी. इसमें सरकार के अलावा इंजीनियरों, नेटवर्क ऑपरेटरों और इंटरनेट यूजर तक का दखल है. 
 
लेकिन, उस वक्त इस तरह के संगठन की कोई परंपरा नहीं थी और वैधता पर सवाल भी खड़े हो सकते थे इसलिए अमेरिका ने इंटरनेट एड्रेस की मास्टर सूची में बदलाव का अधिकार अपने पास रखा. उसने वादा किया कि संगठन के सक्षम होने के बाद वह हट जाएगा.
 
अमेरिकी नियंत्रण पर उठे सवाल 
वर्ष 2013 में यह पता लगने के बाद कि अमेरिका की नेशनल सिक्योरिटी एजेन्सी ने दुनियाभर में इंटरनेट यूजर्स की जासूसी की है, अमेरिका पर आईसीएएनएन पर नियंत्रण खत्म करने का दबाव बढ़ा. साल 2014 में अमेरिकी सरकार इसके लिए तैयार हो गई लेकिन शर्त रखी की आईसीएएनएन वास्तव में स्वतंत्र हो और अन्य सरकारों, व्यावसायिक ताकतों के दबाव से निपटने के काबिल हो. 
 
आईसीएएनएन के इस साल कई सुधार करने पर सहमत होने के बाद अमेरिका ने संगठन को नियंत्रण मुक्त करके पूरी जिम्मेदारी सौंपने का फैसला किया है. हालांकि, रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर टेड क्रूज और अधिकारियों ने इसका विरोध किया था. उनका कहना है कि अमेरिका के नियंत्रण छोड़ने से चीन, जापान औ रूस जैसे इसे अपने हाथ में ले सकते हैं. 
First Published | Monday, October 3, 2016 - 14:59
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: america cannot control internet now
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना में नवीन आविष्कारों के लिए प्रमाण पत्र भेंट करते हुए
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में बर्फबारी का एक दृश्य
  • पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, एक दूसरे को मकर संक्राति की बधाई देते हुए
  • मुम्बई में, भित्ति कलाकार रूबल नागी की क्रिएशन का उद्द्घाटन करने पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान
  • मुंबई में अभिनेत्री जूही चावला, पर्यावरण के प्रति प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बोलते हुए
  • अभिनेता अर्जुन रामपाल, नई दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान
  • जुहू के इस्कॉन मंदिर में, दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की पत्नी नंदिता पुरी और बेटा ईशान
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, नई दिल्ली में पार्टी के "जन वेदना सम्मेलन" के दौरान संबोधित करते हुए
  • चेन्नई में, आनेवाले पोंगल के लिए बर्तनों पर चित्रकारी में व्यस्त महिला
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले, गाजियाबाद में फ्लैग मार्च करते सुरक्षा कर्मी
Pro Wrestling League India (PWL)