न्यूयॉर्क. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के आठ साल के कार्यकाल में पहली बार उनके वीटो को संसद ने दरकिनार कर दिया है. बुधवार को वीटो लगाने के पक्ष में मतदान हो रहा था, वीटो को खारिज करने के पक्ष में 97 वोट पडे जबकि इसके पक्ष में केवल एक ही मत पडा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
किसलिए था वीटो
राष्ट्रपति ओबामा ने 9/11 के पीडितों को सउदी अरब के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति देने वाले बिल पर वीटो लगाया था. बिल में ग्यारह सितंबर के हमलों के पीडित परिवारों को यह अधिकार दिया गया था कि वे सउदी सरकार के खिलाफ मुकदमा दायर कर सकते है. न्याय अधिनियम (जास्टा) बिल आतंकवाद को पालने पोसने वालों के खिलाफ था. राष्ट्रपति ओबामा ने इसके खिलाफ बहुत मेहनत की थी. 
 
ओबामा बोले एक खतरनाक मिसाल कायम हुई
ओबामा को इस बिल के खारिज हो जाने से बहुत बड़ा झटका लगा है, और उन्होंने कहा है कि संसद ने इसे खारिज करके एक खतरनाक मिसाल कायम की है. उन्होंने सीनेट के नेताओं को भेजे गए पत्र में यह भी कहा है कि इसे कानून के रुप में लागू करना हमारे राष्ट्रीय हितों को नुकसान पहुंचाएगा. बता दें कि यह बहुत दुर्लभ मामला है और ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है. इसके खारिज होने से यह पता चलता है कि व्हाइट हाउस कमजोर हो गया है, क्योंकि राष्ट्रपति ने अभी तक के कार्यकाल में 12 वीटो लगाए हैं. अभी तक उनके किसी वीटो को दरकिनार नहीं किया गया था.