‘तकनीक अब हज का हिस्सा है’ यह कहना है इंटेलिजेंट अम्ब्रेला नाम का डिवाइज इंवेंट करने वाले मक्का के इंजीनियर कमल बदावी का. कमल का यह डिवाइज हज यात्रा को वर्चुअल दुनिया में पहुंचा कर हाईटेक बनाने वाला है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल इस डिवाइज की मदद से अब हज यात्री अपने स्मार्टफोन का इस्तमाल करते हुए पूरी यात्रा को लाइव ब्रॉडकास्ट कर पाएंगे. इसकी मदद से हज यात्रा करने वालो के सगे-संबंधी घर बैठे ही अपने स्मार्टफोन पर पूरी यात्रा को लाइव देख पाएंगे. इस अम्ब्रेला को बनाने में कमल की मदद फिलिस्तीन के मनल डन्डिस ने की है. 
 
यह नई शुरुआत अपने आप में बहुत मायने रखती है क्योंकि इससे पहले तक उस मक्का मदीना की विशाल मस्ज़िद में कैमरा तो क्या मोबाईल फोन तक लेकर जाने की मनाही थी लेकिन अब इस शनिवार से आधिकारिक तौर पर इसकी छूट मिल जाएगी. इतना ही नहीं यह नई शुरुआत हज यात्रा के हर आयाम को प्रभावित करेगी.
 
इस इंटेलिजेंट अम्ब्रेला को इस्तमाल करने के लिए इसे खुली रौशनी वाली जगह पर खोलना होगा. इस पर लगे सोलर पैनल अम्ब्रेला से जुड़े छोटे पंखों को बिजली देंगे जिससे यात्रियों को गर्मी नहीं लगेगी. इसके अलावा यह जीपीएस डाटा और फ़ोन को चार्ज करने के भी काम आएगा. इन दो इंजीनयरों ने वुज़ूल नाम से एक ऐप्लिकेशन भी बनाई है जिसके जरिये रास्तों आदि की जानकारी यात्रियों को मिल सकेगी. 
 
कमल और मनल डन्डिस का इस ऐप्लिकेशन के बारे में कहना है कि आने वाले समय में इसमें ऐसा फीचर भी होगा जिससे भीड़ में गुम हो जाने पर अपनों को ढूंढना आसान हो जाएगा.