नई दिल्ली. गिलगिट, पीओके और बलूचिस्तान के बाद पाकिस्तान के सिंध प्रांत में भी आजादी की मांग उठने लगी है. मीरपुर खास में सिंध के लोगों ने पाकिस्तान से अलग सिंधुदेश की मांग उठाते हुए आजादी के नारे लगाये. साथ ही चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का विरोध किया
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इससे पहले बलूचिस्तान और सिंध के लोगों ने आजादी की मांग करते हुए लंदन में चीन के दूतावास के बाहर अपना विरोध प्रकट किया और आजादी के नारे लगाये. साथ ही पाकिस्तान में चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का विरोध किया और भारत के प्रधानमंत्री मोदी के समर्थन में नारे लगाये. प्रदर्शनकारियों ने ‘कदम बढ़ाओ मोदीजी, हम तुम्हारे साथ है’ नारे लगाए. 
 
इस दौरान बलूच नेता नूरदीन ने कहा कि बलूचिस्तान में स्थानीय लोगों की मर्जी के बिना पाकिस्तान और चीन कुछ नहीं कर सकते हैं. साथ ही उन्होंने दोनों देशों पर बलूचिस्तान में प्राकृतिक संसाधनों की लूट का आरोप लगाया.  
 
वहीं सिंध के लोगों ने भी चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) का विरोध किया है. विश्व सिंधी कांग्रसे के चेयरमैन लाखु लुहाना ने कहा कि सिंध को लोगों को सीपीईसी किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं है.