वाशिंगटन. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद अब अमरीका ने भी पीओके में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर चिंता जताई है. साथ ही अमरीका ने मतभेदों को लेकर शांतिपूर्ण तरीकों और वैध राजनीतिक प्रक्रिया के जरिए काम करने की अपील की है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अमरीकी विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता मार्क टोनर ने एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, वहां (पीओके) की मानवाधिकारों की स्थिति को लेकर हम चिंतित हैं. अपनी मानवाधिकारों की रिपोर्ट में कई सालों तक हमने इसका जिक्र किया है. 
 
पीओके में मानवाधिकारों की स्थिति पर पूछे एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हमने हमेशा से पाकिस्तान में सभी पक्षों से अपील करते आए हैं कि वे अपने मतभेदों को लेकर शांतिपूर्ण तरीकों के जरिए और वैध राजनीतिक प्रक्रिया के तहत काम करें. उन्होंने कहा कि कश्मीर के बारे में हमारी नीति जगजाहिर है.  
 
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाक अधिकृत कश्मीर का मामला उठाया था. उन्होंने मानवाधिकारों के उल्लंघन को लेकर पाकिस्तान पर निशाना साधा था और कहा था कि पीओके के लोगों को पाकिस्तान के दमन चक्र से मुक्ति दिलाना भारत का नैतिक दायित्व है.