तेहरान. ईरान ने देशद्रोह के आरोप में पिछले 5 साल से जेल में बंद अपने परमाणु वैज्ञानिक शाहराम अमीरी को फांसी दे दी है. 39 वर्षीय अमीरी की मां ने मीडिया को जानकारी दी कि उनके बेटे का शव जब उन्हें सौंपा गया तो उसके गले में फांसी का निशाना था. उनका कहना है कि उन्हें अपने बेटे को फांसी दिए जाने की खबर भी नहीं थी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ईरान के परमाणु कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी रखने वाला अमीरी जून 2009 में हज करने मक्का गए और वहीं से लापता हो गए. अमीरी ने 1 साल बाद जुलाई 2010 में ईरान लौटने पर सनीसनीखेज खुलासा करते हुए मीडिया को बताया कि अमेरिकी खुफिया एजेंसी (सीआईए) ने उसे जबरन उठा लिया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
उसका कहना था कि सीआईए ने उसे प्रताडित करके ईरान के परमाणु कार्यक्रम की जानकारी हासिल करने की कोशिश की.