नई दिल्ली. नेपाल के माओवादी नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने जा रहे है. आज उन्हें फिर से प्रधानमंत्री पद के लिए चुना गया. प्रचंड ने मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया था. बताया जा रहा है कि पुष्प कमल दहल प्रचंड आंदोलनरत मधेसियों का भी समर्थन मिल गया है. उन्होंने मधेसियों के साथ तीन सूत्री समझौते पर हस्ताक्षर किए है. जिससे उनके प्रधानमंत्री बनने की राह आसान हो गई.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि प्रचंड के नेतृत्व में बनने वाली सरकार के लिए मधेसी पार्टियों का समर्थन हासिल करने के मकसद से नेपाली कांग्रेस और सीपीएन-माओवादी सेंटर ने मधेसी फ्रंट के साथ तीन सूत्री समझैते पर हस्ताक्षर किया. प्रधानमंत्री पद के लिए प्रचंड एकमात्र आधिकारिक उम्मीदवार हैं.
 
बता दें कि केपी ओली ने बीते 24 जुलाई को प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. जिसके बाद नेपाल में नया राजनीतिक संकट पैदा हो गया. ओली के इस्तीफे के बाद से प्रधानमंत्री का पद खाली पड़ा था.  
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
माना जा रहा है कि प्रचंड गुरूवार को छोटी कैबिनेट का एलान करेंगे जिसमें माओवादी पार्टी, नेपाली कांग्रेस, सीएन-यूनाइटेड और राष्ट्रीय प्रजातांत्रिक पार्टी के सदस्य शामिल होंगे.