नई दिल्ली. पोप फ्रांसिस ने इस्लाम की तुलना हिंसा से करने को गलत बताया है. पोप ने कहा कि कैथोलिक लोग भी मुस्लिमों जितने खतरनाक हो सकते हैं. इसके साथ ही पोप ने चेतावनी दी कि यूरोप अपने युवाओं को आतंकवाद की ओर धकेल रहा है. पोप ने पत्रकारों से कहा कि मुझे नहीं लगता कि इस्लाम की तुलना हिंसा से करना सही है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
फ्रांसिस ने फ्रांस में जिहादी द्वारा एक कैथोलिक पादरी की हत्या की निंदा करने के दौरान इस्लाम का नाम न लेने के अपने फैसले का बचाव किया. उन्होंने कहा कि लगभग हर धर्म में हमेशा चरमपंथियों का एक छोटा समूह रहता है. हमारे यहां भी है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
उन्होंने नस्लवाद और विदेशियों से डर को बढ़ावा देने वाले दलों के उदय की ओर इशारा देते हुए कहा कि आप चाकू के साथ-साथ जुबान से भी हमें मार सकते हैं. उन्होंने कहा कि यूरोप को अपने घर को करीब से देखना चाहिए. उन्होंने कहा कि आतंकवाद वहां पनपता है, जहां धन को उपर रखा जाता है और जहां अन्य कोई विकल्प नहीं होता.