नई दिल्ली. चीन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की परवाह ना करते हुए एनपीटी (परमाणु अप्रसार संधि) का उल्लंघन किया है. दरअसल चीन ने पाकिस्तान को न्यूक्लियर रिएक्टर्स मुहैया कराए हैं. यह खुलासा परमाणु अप्रसार की वैश्विक संस्था आर्म्स कंट्रोल एसोसिएशन की एक रिपोर्ट में किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार एक ऐसे देश (पाकिस्तान) को ये रिएक्टर्स देना जो अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) द्वारा तय मानकों के तहत नहीं आता है, परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) के प्रावधानों का स्पष्ट उल्लंघन है.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि चीन हमेशा से परमाणु अप्रसार संधि का हवाला देता रहा है. उसने इसी आधार पर भारत की सदस्यता का भी विरोध किया था. चीन ने कहा था कि जो देश एनपीटी में नहीं शामिल हैं, उसे एनएसजी में शामिल करने से परमाणु अप्रसार की कोशिशों को धक्का लगेगा.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
उल्लेखनीय है कि चीन ने 2004 में एनएसजी की सदस्यता मिलने के बाद से अब तक पाकिस्तान को छह परमाणु रिएक्टर मुहैया कराए हैं. चीन ने इस आपूर्ति के लिए पाकिस्तान के साथ हुई 2003 में अपने समझौते का हवाला दिया है. हालांकि तब चीन एनएसजी का सदस्य भी नहीं था.