इस्लामाबाद. पाकिस्तान के विदेश सचिव ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों को कश्मीर घाटी में जारी विरोध प्रदर्शनों पर जानकारी दी और भारतीय सुरक्षा बलों पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया. अजीज अहमद चौधरी ने चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका के राजनयिकों को यह जानकारी दी और ‘नागरिकों की हत्या और उनके मौलिक मानवाधिकारों के उल्लंघन’ पर चिंता जताई.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
विदेश कार्यालय से जारी एक बयान के मुताबिक, चौधरी ने कहा, “आतंकवादी कमांडर बुरहान वानी की हत्या के खिलाफ” प्रदर्शन कर रहे नागरिकों के के खिलाफ बल प्रयोग किए जाने के कारण अब तक 30 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 350 से भी ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं.
 
 
बयान में कहा गया है कि भारत को इन हत्याओं के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ निष्पक्ष और पारदर्शी जांच करानी चाहिए. पाकिस्तान ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से कश्मीर घाटी की गंभीर स्थिति पर ध्यान देने का आग्रह किया है और भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को लागू करने को कहा है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android A pp | Facebook | Twitter
 
चौधरी ने भारत के इस दावे को कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है, रद्द करते हुए कहा, “जम्मू-कश्मीर की विवादित स्थिति को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के कार्यान्वयन का इंतजार है.”