बीजिंग. एनएसजी में भारत की राह में रोड़ा बने चीन के बचाव में चीनी मीडिया ने अब भारत पर ही दोष मढ़ना शुरु कर दिया है. चीनी मीडिया ने भारत के आरोपों से किनारा करते हुए भारत पर नाकामी का आरोप लगाया है.साथ ही भारत को नसीहत दी है कि वो अपनी नाकामी छिपाने के लिए हमें बदनाम ना करें    
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने इस बारे में एक संपादकीय लिखा है कि भारत को चीन को बदनाम करने और चीजों की तोड़-मरोड़कर पेश करने के बजाय इस मामले में अंतरराष्ट्रीय समर्थन पाने के लिए अभी और कोशिश करनी चाहिए. संपादकीय में अखबरा ने भारतीय लोगों और मीडिया दोनों पर निशाना साधा है.
 
अखबार ने लिखा है कि सियोल में एनएसजी की बड़ी बैठक में भारत की सदस्यता को लेकर जो नतीजे आए उसे भारतीय नागरिक स्वीकार नहीं करना चाहते. ज्यादातर भारतीय मीडिया में चीन पर आरोप लगाया गया है कि उसने भारत की सदस्यता का विरोध किया. चीन को भारत का विरोधी और पाकिस्तान समर्थक बताया गया.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
इससे पहले भी ग्लोबल टाइम्स ने भारतीयों और भारतीय मीडिया पर कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा था कि भारत के राष्ट्रवादियों को व्यवहार करना सीखना चाहिए. उसने लिखा था कि भारतीय लोग अपने देश को सुपर पावर बनते देखना चाहते हैं, लेकिन इन्हें यह नहीं पता है कि दुनिया की बड़ी ताकतें कैसे खेल खेलती हैं.