वाशिंगटन. फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन से शनिवार को साढ़े तीन घंटे तक पूछताछ की. हिलेरी पर आरोप है कि विदेश मंत्री रहने के दौरान उन्होंने अपने निजी ईमेल का इस्तेमाल किया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह मुद्दा अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के लिए उनके प्रचार अभियान में छाया रहा है. बता दें कि हिलेरी अमरीका में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हैं.
 
हिलेरी के प्रचार अभियान के प्रवक्ता निक मेरिल ने बताया कि हिलेरी से ये पूछताछ एफबीआई के हेडक्वॉर्टर में की गई. उन्होंने विदेश मंत्री रहने के दौरान की ईमेल व्यवस्थाओं के बारे में स्वेच्छा से सवालों के जवाब दिए. मेरिल ने कहा कि वह इस समीक्षा को एक परिणाम तक पहुंचाने के लिए न्याय मंत्रालय की मदद करने का अवसर पाकर खुश हैं. जांच प्रक्रिया का सम्मान करते हुए, वह इस पूछताछ के बारे में और टिप्पणी नहीं करेंगी और वो खुद ही पूछताछ के लिए गई थीं.
 
एफबीआई इस बात की जांच कर रही है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा के पहले कार्यकाल के दौरान विदेश मंत्री रहते हुए हिलेरी और उनके सहयोगियों ने एक निजी ईमेल सर्वर पर किसी गोपनीय जानकारी का दुरूपयोग तो नहीं किया? अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की संभावित उम्मीदवार हिलेरी ने अपने निजी ईमेलों में किसी गोपनीय जानकारी का उल्लेख करने से इंकार किया है. हिलेरी ने कहा कि उन्होंने सुविधा के लिए ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल किया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
इस मामले में रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि एफबीआई के लिए यह असंभव है कि वह हिलेरी पर क्रिमिनल चार्ज के लिए सिफारिश करें. क्या हिलेरी ने जो किया वो गलत नहीं था?