बगदाद. इराक की राजधानी बगदाद में इस साल के सबसे भीषण आतंकवादी हमलों में 78 लोगों की मौत हो गई और 130 से अधिक घायल हो गए. रविवार को हुए इन दो अलग-अलग बम विस्फोटों में आतंकियों ने निशाना उन लोगों को बनाया जो ईद की खरीदारी के लिए शहर के व्यस्त क्षेत्रों में पहुंचे थे. पुलिस और डॉक्टरों के मुताबिक, मध्य बगदाद के सर्वाधिक बड़े व्यापारिक केंद्र करादा में इस साल का सबसे भयावह आतंकी हमला हुआ. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने ऑनलाइन बयान जारी कर इस वारदात की जिम्मेदारी ली है. उसने कहा है कि उसने जान बूझकर शिया समुदाय को निशाना बनाया है. आईएस ने आत्मघाती कार बम हमले का दावा करते हुए कहा कि बम हमले में इराक के शिया मुस्लिम समुदाय के सदस्यों को निशाना बनाया गया जो यहां अधिक संख्या में हैं.
 
 
आईएस के लोग शिया मुस्लिमों को धर्म-विरोधी मानते हैं और अकसर बगदाद तथा अन्य जगहों पर हमले करते हैं. लेकिन, इस बयान की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं हो सकी है. 
 
इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने करादा का दौरा किया और हमले में शामिल आतंकवादियों को दंडित करने की कसम खाई. सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए वीडियो में नजर आ रहा है कि नाराज लोगों ने अबादी को ‘चोर’ कहते हुए उनके खिलाफ नारेबाजी की.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
अबादी के कार्यालय से जारी बयान में कहा गया है कि हाल के दिनों में इराक के अनबर और फालुजा में आतंकियों को जिस बड़े पैमाने पर शिकस्त मिली है, यह हमला इसी की हताशा का नतीजा है. फालुजा को आतंकियों के कब्जे से मुक्त कराने से पहले बगदाद में अबादी के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे थे. लोगों का कहना था कि बगदाद में सुरक्षा व्यवस्था बेहद खराब हालत में है.