ढाका. बांग्लादेश की राजधानी ढाका के एक रेस्टोरेंट में शुक्रवार की रात हुए आतंकी हमले में 1 भारतीय लड़की समेत 20 विदेशी लोगों के मारे जाने की खबर है. भारतीय लड़की की मौत की पुष्टि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके की.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
वहीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके इस हमले में एक भारतीय लड़की के मारे जाने की पुष्टि की. लड़की का नाम तारुषी है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मुझे यह बताते हुए बेहद दुःख हो रहा है कि ढाका में हुए हमले में आतंकियों ने तारुषी नाम की भारतीय लड़की को मार दिया है.’
18 वर्षीय तारुषी जैन यूसी बर्कले की छात्रा थी. वह ढाका में छुट्टी बिताने गई थी. उसके पिता पिछले 15-20 वर्षों से बांग्लादेश में कपड़े का कारोबार कर रहे हैं. वहीं विदेश मंत्रालय की ओर से प्राप्त जानकारी के मुताबित तारुषी के परिजनों को बांग्लेदेश पहुंचाने में मदद की जा रही है. आतंकियों ने जिन 40 लोगों को बंधक बनाया था उसमें एक भारतीय डॉक्टर और उनकी पत्नी भी शामिल थी, लेकिन उन्हें बचा लिया गया है.
 
6 आतंकी ढेर
करीब 10 घंटे तक चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 6 आतंकियों को मार गिराया. आतंकियों ने कुल 40 लोगों को बंधक बनाया था जिसमें  से 13 लोगों को बचाया जा सका. ब्रिगेडियर जनरल नईम अशफाक चौधरी का कहना है कि 20 विदेशी नागरिकों के शव रेस्टोरेंट के अंदर से बरामद किए गए हैं. उन्होंने कहा, ‘हमने 20 शव बरामद किए हैं. इनमें से अधिकांश को धारदार हथियारों से मौत के घाट उतारा गया है.’ बता दें कि आर्मी का कहना है कि मरने वालों में ज्यादातर इटली और जापान के नागरिक हैं.
 
 
हमले की नींदा करते हुए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेक हसीना ने कहा है कि यह कैसे मुसलमान है जो रमजान के महीने में भी इंसानों का कत्ल कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बांग्लादेश खुद को आतंकवाद का गढ़ नहीं बनने देगा.
 
 
आतंकियों को किसी तरह से फॉर्सेज के मूवमेंट की जानकारी न मिले इसके लिए इस घटना के लाइव मीडिया कवरेज पर रोक लगा दी गई थी. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 

बता दें कि शुक्रवार की रात को ढाका के पॉश इलाके गुलशन डिप्लोमेटिक जोन की एक बेकरी में 9 आतंकियों ने हमला बोलकर 40 लोगों को बंधक बना लिया था. इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ऑफ इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) ने ली थी.