लंदन. ब्रिटेन के यूरोपियन यूनियन (ईयू) से अलग (ब्रेग्जिट) होने के बाद अब लेग्जिट की मांग शुरू हो गई है. लंदन में रहने वाले लोग यूरोपियन यूनियन में बने रहना चाहते हैं इसलिए उन्होंने लंदन को अलग स्वतंत्र राष्ट्र बनाने के लिए मुहीम तेज कर दी है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ब्रिटिश संसद की वेबसाइट पर लंदन के मेयर सादिक खान के नाम से एक ऑनलाइन याचिका शुरू हुई है. इस याचिका का अब तक हजार से ज्यादा लोगों ने समर्थन किया है. याचिका में लंदन को स्वतंत्र राष्ट्र घोषित करने की मांग की गई है, यह भी कहा गया है कि लंदन यूरोपिय संघ का हिस्सा बने रहना चाहता है. 
 
 
बता दें कि गुरुवार को हुए जनमत संग्रह में करीब 60 फीसदी लंदन की जनता ने ईयू में बने रहने के समर्थन में वोट किया था. वहीं इंग्लैंड के बाकी जगहों में ज्यादातर लोगों ने ईयू से अलग होने के पक्ष में वोट किया था.
 
 
याचिका को मिले समर्थन के बाद मेयर सादिक खान का कहना है कि ईयू से अलग होने वाली वार्ता में लंदन के लोगों की भी बात सुनी जाए. याचिका में यह भी कहा गया है कि अगर लंदन अलग होगा तो सादिक खान राष्ट्रपति होंगे.
 
जेम्स ओ मैले नाम के व्यक्ति ने चेंज डॉट ओआरजी पर यह याचिका शुरू की है. मैले का कहना है कि ब्रिटेन की राजधानी एक विश्वविख्यात शहर है इसलिए इसे यूरोप के दिल की तरह काम करना चाहिए. उन्होंने कहा कि वह ईयू के समर्थक हैं, और वोटिंग के बाद आए हुए नतीजों को देखकर परेशान हो गए. मैले का कहना है कि याचिका शुरू करके उन्होंने लोगों के मन का काम किया है, वह लोगों के रुझान से काफी हैरान हैं.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
दोबारा जनमत संग्रह कराने की मांग
 
ब्रिटेन में करीब 10 लाख से ज्यादा लोगों ने एक अन्य याचिका पर हस्ताक्षर करके एक बार फिर से ईयू से अलग होने वाले मुद्दे पर जनमत संग्रह कराने की मांग की है. बता दें कि इस पर ब्रिटेन की संसद में चर्चा का प्रस्ताव है.