इस्लामाबाद. अपने रुख में बड़ा परिवर्तन करते हुए पाकिस्तान ने कहा कि उसने न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (एनएसजी) के देशों से अपील की है कि वह समूह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान और भारत दोनों के आवेदनों पर विचार करें. पाकिस्तान का कहना है कि इस क्षेत्र की सामरिक स्थिरता को ध्यान में रखते हुए भारत और पाकिस्तान को एक साथ एनएसजी का सदस्य बनाया जाना चाहिए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकरिया ने पाकिस्तान द्वारा भारत की एनएसजी सदस्यता के विरोध में लॉबिंग करने को लेकर पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में कहा, “विदेश मंत्रालय ने एनएसजी से गुजारिश की है कि वह पाकिस्तान और भारत की सदस्यता के आवेदन को इस क्षेत्र की सामरिक स्थिरता को ध्यान में रखते हुए साथ-साथ मंजूर करे.”
 
 
उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान ने एसएसजी सदस्यों से यह भी गुजारिश की है कि ‘पाकिस्तान और भारत की सदस्यता को लेकर एक निष्पक्ष दृष्टिकोण बनाया जाए.’ उन्होंने कहा, “हमारा यह लगातार रुख है कि गैर एनएसजी देशों की एनएसजी सदस्यता के लिए एक एकल, समरूप, गैर भेदभावपूर्ण और उचित मापदंड का पालन किया जाए.”
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
भारत और पाकिस्तान, दोनों ने ही एनएसजी सदस्यता के लिए आवेदन किया है और दोनों सदस्य देशों से समर्थन की लॉबिंग कर रहे हैं. पाकिस्तान का हर हाल में साथ देने वाला दोस्त चीन लगातार एनएसजी की सदस्यता के लिए भारत का विरोध कर रहा है, लेकिन पाकिस्तान को शामिल करने का समर्थन कर रहा है.