इस्लामाबाद. विदेशी मामलों में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज ने दावा करते हुए कहा है कि पाक ने एनएसजी में जाने की भारत के प्रयासों को सफलतापूर्वक नाकाम कर दिया है. अजीज ने यह भी कहा कि एनएसजी में जाने का पाक का दावा अपनी योग्यता के दम पर और गैर-भेदभाव के आधार पर ज्यादा मजबूत है. बता दें कि 23-24 जून को सिओल में एनएसजी पर होने जा रही 48 देशों की बैठक में भारत और पाक की सदस्यता की अर्जी पर फैसला हो सकता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
‘पाक ने अपने हितों की हिफाजत की’
अजीज ने कहा कि भारत ने हमेशा दक्षिण एशिया क्षेत्र पर अपना ‘प्रभुत्व’ बरकरार रखने की कोशिश की है, जबकि पाकिस्तान ने ‘प्रभावी रूप से’ अपने हितों की हिफाजत करते हुए इसे खारिज किया है. अजीज ने यह भी कहा कि पाकिस्तान ने इस प्रभुत्व को सदैव खारिज करते हुए अपने हितों के साथ-साथ कश्मीर, परमाणु प्रतिरोधी क्षमता एवं पारंपरिक हथियार संतुलन पर रुख की प्रभावी तरह से रक्षा की है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
NSG सदस्यता के बाद बढ़ेगी भूमिका
अजीज ने कहा कि पाकिस्तान को अलग-थलग नहीं किया गया है और इसकी आधिकारिक विदेश नीति विश्व की नई दशा दिशा के अनुरूप तैयार की गई है. विदेश नीति का आधार उसके नागरिकों और परमाणु हथियारों की सुरक्षा है. साथ ही एससीओ का पूर्ण सदस्य बनने के बाद पाकिस्तान की राजनीतिक भूमिका भी बढ़ जाएगी.