बीजिंग. न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (एनएसजी) में भारत की सदस्यता की उम्मीद एक बार फिर जाग गई है. भारत की एंट्री के मुद्दे पर चीन ने अपने रुख में थोड़ा बदलाव किया है. चीन ने कहा है कि भारत की सदस्यता पर बातचीत चल रही है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
चीन का कहना है कि जिन देशों ने नॉन-प्रोलिफिरेशन ट्रीटी (एनपीटी) पर साइन नहीं किए हैं, वे भी एनएसजी के मेंबर हो सकते हैं, इसके लिए चर्चा के रास्ते हमेशा खुले रहेंगे.
 
चीन के विदेशी विभाग के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा है कि एनपीटी मेंबर्स के एनसीजी में जाने का रास्ता फिलहाल खुला हुआ है. इस मुद्दे पर चर्चा की जाएगी. बता दें कि 23 और 24 जून को सिओल में एनएसजी प्लेनरी की मीटिंग होने वाली है.
 
चीन ने जहां यह बयान देकर भारत के लिए थोड़ी नर्मी दिखाई है तो वहीं पाकिस्तान की सदस्यता के लिए भी चीन ने कहा है कि अगर एनपीटी और एनएसजी भारत को छूट दे सकते हैं, तो ये छूट पाकिस्तान पर भी लागू होनी चाहिए. ये पहली बार है जब चीनी मीडिया ने एनएसजी मेंबरशिप को लेकर सीधे तौर पर पाकिस्तान का सपोर्ट किया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter