वॉशिंगटन. अमेरिका में रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डॉनल्ड ट्रंप ने एक और विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि अमेरिका में अपराध और आतंक को रोकने के लिए मुसलमान नागरिकों की प्रोफ़ाइलिंग होनी चाहिए और इसको शुरू करने की दिशा में गंभीरतापूर्वक सोचना चाहिए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बीते दिनों ऑरलैंडो में एक गे क्लब में हुए हमले का ज़िक्र करते हुए जब डॉनल्ड ट्रंप से पूछा गया कि क्या वो अमरीका में मुस्लिम नागरिकों की प्रोफ़ाइलिंग के प्रस्ताव का समर्थन करते हैं तब ट्रंप ने कहा कि ये जल्द से जल्द शुरू होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि पूरे देश को प्रोफ़ाइलिंग के बारे में सोचना शुरू करना होगा.
 
इसराइल और दूसरे देशों को देखिए. वो सफलतापूर्वक इस चीज़ को कर रहे हैं. वैसे प्रोफ़ाइलिंग का मैं प्रशंसक नहीं हूं लेकिन तर्कपूर्वक सोचें तो हमें इसकी ज़रूरत है. ये इतनी ख़राब चीज़ भी नहीं है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
प्रोफ़ाइलिंग का मतलब होता है नस्ल, जाति और धर्म के आधार पर इस नतीजे पर पहुंचना कि फ़लां शख़्स समाज के लिए ख़तरा हो सकता है या नहीं. ट्रंप के आलोचकों ने उनके इस बयान की निंदा की है और कहा है कि इससे मुस्लिम समुदाय में नफ़रत की भावना बढ़ेगी.