वाशिंगटन. अमेरिका ने एनएसजी ग्रुप में भारत की सदस्यता के लिए बाकी सदस्य देशों से अपील की है. अमेरिका ने कहा है कि सदस्य देश भारत की राहों में रोड़े ना अटकाये बल्कि समर्थन करें. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने एक सम्मेलन में कहा कि अमेरिका ने परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह के सहयोगी देशों से अपील है कि वो सहयोगी देश भारत के आवेदन का समर्थन करें. अमेरिका के दवाब में न्यूजीलैंड भारत को समर्थन के लिए राजी हो गया है.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि अमेरिका एनएसजी में भारत की सदस्यता का समर्थन कर रहा है. इससे पहले यहां एक बैठक से पूर्व अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने एनएसजी में भारत की सदस्यता का विरोध कर रहे देशों को पत्र लिखकर अनुरोध किया था. केरी ने कहा कि सभी देशों को समूह में भारत को शामिल किए जाने पर आम सहमति में रुकावट नहीं डालते हुए इस पर सहमति जतानी चाहिए.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
अमेरिका ने एनएसजी में भारत के प्रवेश पर समर्थन के संबंध में यह बयान ऐसे समय में दिया है, जब एक दिन पहले चीन की आधिकारिक मीडिया ने चिंता जताई थी कि भारत के प्रवेश से दक्षिण एशिया में सामरिक संतुलन प्रभावित होगा और भारत एक परमाणु शक्ति बन जाएगा.