वाशिंगटन. हमेशा की तरह चीन के विरोध को नजरअंदाज करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा आज बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा से व्हाइट हाउस में मुलाकात करेंगे. दलाई लामा और ओबामा की मुलाकात से चीन की त्यौरियां चढ़ सकती हैं. 
 
व्हाइट हाउस के द्वारा इस मुलाकात की घोषणा हुई थी. यह मुलाकात में दौरान प्रेस को आने की अनुमति नहीं होगी. बता दें कि तिब्बती आध्यात्मिक नेता इस समय अमेरिका की यात्रा पर हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इससे पूर्व व्हाइट हाउस ने कहा था कि अमेरिका के राष्ट्रपति दलाई लामा के धार्मिक एवं आध्यात्मिक नेता होने के कारण उनसे मुलाकात करते हैं. हालांकि अमेरिका का मानना है कि तिब्बत चीन का अभिन्न हिस्सा है लेकिन दलाई लामा की अमेरिका के राष्ट्रपति के साथ हर मुलाकात बीजिंग को नाराज कर देती है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
शीर्ष डेमोक्रेटिक नेता नैंसी पेलोसी ने कहा कि तिब्बतियों एवं विश्व भर के लोगों के लिए सम्मानजक होने के कारण परम पूजनीय हमें हमारी बड़ी जिम्मेदारी का एहसास कराते हैं कि हम मानवाधिकारों की रक्षा करने, समानता को प्रोत्साहित करने एवं पर्यावरण की रक्षा करने के लिए काम करें. नैंसी ने कहा कि तिब्बत में तिब्बतियों की संख्या को कमजोर करने की चीन की हर प्रकार की कोशिश वास्तव में बहुत गलत होगी.