वाशिंगटन. मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने प्रोफेशनल सोशल नेटवर्किंग कंपनी लिंक्ड-इन को 26 अरब डॉलर में खरीदने का फैसला किया है. दोनों कंपनियों के बीच डील हो गई है और सौदा इस साल के अंत तक पूरा हो जाने की उम्मीद है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
माइक्रोसॉफ्ट ने इस फैसले को सार्वजनिक करते हुए बताया है कि लिंक्ड-इन ब्रांड को बदला नहीं जाएगा और इसके मौजूदा सीईओ जेफ़ विनर अपने पद पर बने रहेंगे लेकिन माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला को रिपोर्ट करेंगे.
 
माइक्रोसॉफ्ट ने 196 डॉलर प्रति शेयर के हिसाब से लिंक्ड-इन के साथ इस सौदे को फाइनल किया है. इस फैसला के सामने आने के बाद लिंक्ड-इन के शेयर 47 परसेंट चढ़ गए जबकि माइक्रोसॉफ्ट के शेयर करीब 3 परसेंट नीचे आ गए. लिंक्ड-इन का शेयर इस साल करीब 42 परसेंट नीचे आ गया था.
 
लिंक्ड-इन इस सौदे से पीछे हटती है तो उसे माइक्रोसॉफ्ट को 725 मिलियन डॉलर हर्जाना देना पड़ेगा. माइक्रोसॉफ्ट का मानना है कि लिंक्ड-इन खरीदने के बाद वो अपने ग्राहकों को और ज्यादा बेहतर सेवा दे पाएगी वहीं लिक्ड-इन को भी तकनीकी तौर पर ताकत मिलेगी.
 
मसलन, लिंक्ड-इन को सीधे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस से जोड़ दिया जाए तो उसका इस्तेमाल करने वालों को सामने वाले के प्रोफाइल के बारे में ज्यादा जानकारी मिल सकेगी. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि इससे लोग ज्यादा बेहतर तरीके से काम कर पाएंगे क्योंकि कई सूचना उन्हें आसानी से मिल जाएंगी जिसके लिए उन्हें अलग से खोजबीन करनी होती थी. लिंक्ड-इन को ऑफिस पैकेज के साथ जोड़ने से ऑफिस की भी डिमांड बढ़ सकती है.