मैक्सिको. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच देशों की यात्रा के अंतिम चरण में अमेरिका के बाद आज मैक्सिको पहुंच गए हैं. यहां उन्होंने मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो से मुलाकात की. इसके बाद मैक्सिको के राष्ट्रपति नीतो ने प्रोटोकॉल तोड़कर पीएम नरेंद्र मोदी को खुद अपनी कार ड्राइव करते हुए एक रेस्तरां में डिनर पर ले गए. क्विंटोनिल नाम के रेस्तरां में पीएम मोदी ने डिनर पर खास मैक्सिकन वैजीटेरियन खाने का लुत्फ उठाया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मोदी के इस दौरे के जरिए मेक्सिको 30 साल बाद भारत के एजेंडे पर आ गया. 1986 में राजीव गांधी यहां आए थे. उनके बाद 2012 में मनमोहन सिंह भी यहां पहुंचे थे, लेकिन तब उनका दौरा जी20 समिट के लिए हुआ था.
 
डिनर करते हुए
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ये अनोखी तस्वीर ट्विटर पर शेयर की. तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा, ‘एक खास जेस्चर में राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो खुद चलाकर पीएम नरेंद्र मोदी को मैक्सिको के रेस्टोरेंट लेकर पहुंचे.’
 
विकास स्वरूप ने रेस्टोरेंट की भी तस्वीरें शेयर कीं जहां दोनों नेता कोने की एक मेज पर खाना खाते और बातचीत करते नजर आ रहे हैं. उन्होंने लिखा, ‘बीन टैकोस पर बनते संबंध. राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो और नरेंद्र मोदी साथ खाते हुए.’
 
NSG पर भारत का किया समर्थन
पीएम मोदी राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो से मुलाकात के बाद संयुक्त बयान जारी किया गया, जिसमें मोदी ने बताया कि भारत को एनएसजी की सदस्यता के लिए मैक्सिको का समर्थन मिल गया है. इसके बाद मोदी ने मैक्सिको के इस सहयोग के लिए धन्यवाद भी कहा. पीएम ने कहा, ‘मैं राष्ट्रपति का शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होंने एनएसजी में भारत की सदस्यता को लेकर अपना सकारात्मक समर्थन दिया है.’ मोदी ने कहा कि भारत और मैक्सिको अब नए क्षेत्रों में साथ आगे बढ़ने जा रहे हैं. बता दें कि अमेरिका और स्विटजरलैंड के बाद मैक्सिको तीसरा देश है जिसने एनएसजी मेंबरशिप के लिए भारत का समर्थन किया है. चार देशों का दौरा पूरा करने के बाद मोदी भारतीय समयानुसार गुरुवार सुबह करीब सवा पांच बजे मैक्सिको पहुंचे.
 
‘लैटीन अमेरिका का पहला देश जिसने भारत को पहचाना’
मोदी ने मुलाकात के बाद कहा कि मैक्सिको लैटीन अमेरिका का पहला ऐसा देश है जिसने भारत को पहचाना है. उन्होंने कहा,  ‘रणनीतिक साझीदारी को लेकर अपने संबंध विकसित करने और इन्हें बेहतर बनाने के लिए हमारे बीच सहमति बनी. उसके बाद से हमारे द्विपक्षीय संबंधों में गहराई आई है. अब हम व्यापार संबंधों से आगे बढ़ने पर विचार कर रहे हैं. आईटी, ऊर्जा, फार्मा और ऑटोमोटिव जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर विचार किया जा रहा है.’ 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
दोनो देशों के बीच 6 अरब डॉलर का है व्यापार
भारत-मेक्सिको के बीच ट्रेड 6 अरब डॉलर का है. एशिया में मेक्सिको के लिए भारत सबसे बड़ा क्रूड ऑयल इम्पोर्टर है. वहीं, भारत से फार्मास्युटिकल प्रोडक्ट्स और ऑटो पार्ट्स मेक्सिको में एक्सपोर्ट किए जाते हैं. भारत मेक्सिको में सबसे बड़ा इन्वेस्टर है. मेक्सिको में भारत के राजदूत मुक्तेश परदेशी के मुताबिक, “मेक्सिको में 50 भारतीय कंपनियां जो 10 हजार लोगों को रोजगार दे रही हैं.”