बेरुत. सीरिया के प्राचीन शहर पल्माइरा पर इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकवादियों ने बुधवार को कब्जा कर लिया. यह शहर यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल है. समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार, सीरिया के प्राचीन धरोहरों की देखभाल से संबंधित विभाग के प्रमुख मामून अब्दुल करीम ने पल्माइमरा पर आईएस के कब्जा कर लेने की पुष्टि करते हुए इसे न केवल सीरियाई नागरिकों, बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक तबाही बताया.

करीम ने यह भी कहा कि सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण यहां के करीब 2,000 साल पुराने प्रसिद्ध भग्नावशेषों को आईएस से खतरा उत्पन्न हो गया है. हालांकि शहर के दक्षिण-पश्चिम इलाके में स्थित रोमन काल के इस पुराताžिवक स्थल से प्रशासन आईएस आतंकवादियों के यहां पहुंचने से पहले करीब 100 मूर्तियां हटा लेने में सफल रहा. करीम ने बताया कि हालांकि पल्माइरा से सुरक्षा बलों को हटा लिया गया है, लेकिन सेना के कुछ जवान और आईएस विरोधी लड़ाके अब भी वहां बने हुए हैं.

सरकारी टेलीविजन की रिपोर्ट के अनुसार, सीरियाई सुरक्षा बल अब भी इस शहर को अपने कब्जे में लेने की कोशिश कर रहे हैं। आतंकवादियों को निशाना बनाकर हवाई हमले किए जा रहे हैं. आईएस आतंकवादी बुधवार अल सुबह उत्तर की ओर से पल्माइरा में दाखिल हुए. तीन दिन पहले ही सेना ने उन्हें खदेड़ बाहर किया था.

यह शहर न केवल पुराताžिवक दृष्टि से बल्कि रणनीतिक दृष्टि से भी होम्स प्रांत में एक महत्वपूर्ण स्थान है. यह पहली और दूसरी शताब्दी में एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक केंद्र हुआ करता था. सीरिया में मार्च 2011 में गृहयुद्ध शुरू होने से पहले पल्माइरा भग्नावशेष देश के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक था. इधर, यूनेस्को की महानिदेशक इरिना बोकोवा ने बुधवार को संघर्ष विराम की अपील की. उन्होंने एक बयान में कहा, “पल्माइरा के हालात से मैं बहुत चिंतित हूं। यह संघर्ष मध्य-पूर्व के महत्वूपर्ण स्थलों में से एक और यहां की जनता के लिए खतरनाक है.”

IANS