मोसुल. दुनिया का सबसे खूंखार आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) का एक बार फिर से रोंगटे खड़े कर देने वाला क्रूर मामला सामने आया है. इस बार आईएस के कब्जे वाले इराक के मोसुल में आतंकवादियों ने 19 यजीदी लड़कियों को जिंदा जला दिया है. रिपोर्ट्स के अनुसार लड़कियों का कसूर इतना था कि उन्होंने आईएस आतंकियों की सेक्स गुलाम बनने से इंकार कर दिया था. जिसके बाद उन सभी लड़कियों को लोहे के पिंजड़े में बंद कर एक साथ आग के हवाले कर दिया गया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सैकड़ों लोगों के सामने जिंदा जलाया
 
इस वारदात के चश्मदीद ने बताया कि गुरुवार को मोसुल में आईएस आतंकियों ने इस वारदात को अंजाम सैकड़ों लोगों के सामने दिया. सैकड़ों लोगों की भीड़ के सामने 19 यजीदी लड़कियों को लोहे के पिंजड़े में बंद कर जला दिया गया. इस क्रूर सजा से उन्हें बचाने के लिए कोई कुछ नहीं कर पाया. 
 
3000 यजीदी लड़कियों को किया अगवा
 
अगस्त 2014 में आईएसआईएस ने नॉर्दर्न के यजीदी इलाके शिंगले पर हमला कर दिया था. इसके बाद 4 लाख से ज्यादा लोगों को दोहुक, इरबिल और कुर्दिस्तान के इलाकों में भागना पड़ा था. वहीं लोकल मिलिट्री सोर्सेज के मुताबिक, इन हमलों में सैकड़ों लोगों की मौत हुई थी और कइयों को अगवा कर लिया गया था. आतंकियों ने करीब 3000 यजीदी लड़कियों को सेक्स स्लेव बनाने के लिए अगवा कर लिया था.
 
ISIS की अब तक की बर्बरता
 
रिपोर्ट्स की मानें तो इतना ही नहीं यह इस तरह की कोई नई वारदात नहीं है, बल्कि इससे पहले भी इस बर्बर आतंकी संगठन के कई घिनौने और भयानक वारदात सामने आए हैं.
 
31 अगस्त 2015 को इराक के अनबर क्षेत्र में चार शिया जासूसों को उल्टा लटकाकर जिंदा जला दिया गया
 
 
24 अक्टूबर 2015 को 19 साल के सीरियन सोल्जर फादी अम्मर जिदान को टैंक से कुचलकर मार दिया गया
 
 
23 जून 2015 को मोसुल में जासूसी के आरोपियों को पिंजरे में बंद करके पानी में डुबाकर दी गई मौत
 
 
10 जून 2015 को मिस्र के सिनाई क्षेत्र में इजरायली खुफिया एजेंट से उसकी कब्र खुदवाकर सिर में गोली मार दी गई
 
 
 
5 दिसंबर 2015 को यमन में शिया हाउती विद्रोही के गले में मोर्टार बांधकर डेटोनेट कर दिया गया
 
 
 23 जून 2015 को इराक के मोसुल में जासूसी के आरोपियों को कार में बिठाकर रॉकेट लॉन्चर से उड़ा दिया गया
 
 
 23 जून 2015 को मोसुल में बंधकों के गले में विस्फोटक बांधकर उन्हें उड़ा दिया गया
 
 
 4 दिसंबर 2015 को यमन में बंधकों को बोट में बिठाकर टाइम बम के जरिए विस्फोट कर दिया गया
 
 
 
15 जनवरी 2015 को इराक के निनेवाह प्रांत में आरोपी गे को छत से नीचे फेंककर मार दिया गया
 
 
 
3 जनवरी 2015 को सीरिया के रक्का में जॉर्डन के पायलट मुआद अल कस्साबेह को पिंजरे में बंद करके जिंदा जला दिया गया
 
 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter