मोसुल. आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक और हैवानियत भरी घटना को अंजाम दिया है. इराक में आतंकी संगठन के लड़ाकों ने सेक्स गुलाम बनने से मना करने पर 19 यजीदी लड़कियों को लोहे के पिंजड़े में बंद कर आग से जलाकर मार डाला. जिहादी आतंकियों ने इस क्रूर वारदात को सैकड़ों लोगों के सामने अंजाम दिया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि इराक के मोसुल शहर में पहले भी आईएसआईएस के आतंकियों ने सेक्स स्लेव बनने से इनकार करने पर कई यजीदी लड़कियों को जलाकर मार डाला था. ऐसे में एक बार फिर इस घि‍नौनी वारदात को अंजाम दिया गया है. नॉदर्न इराक में आईएस के हमले के बाद अगस्त 2014 में 40 हजार लोगों को विस्थापित होना पड़ा था. इसी दौरान बड़ी संख्या में यजीदी लड़कियों को गुलाम बना लिया गया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
स्थानीय लोगों और मिलिट्री सूत्रों के मुताबिक माउंट सिंजर इलाके में हजारों लोगों को फंसाकर रखा गया था. यहीं बड़े पैमाने नरसंहार और गैंगरेप को अंजाम दिया गया. आईएस आतंकियों ने इस्लाम कबूलने और सेक्स स्लेव बनने से इनकार करने पर उन्हें शैतान का पुजारी बताकर कत्ल किया था.