कतर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कतर में कारोबारियों से मुलाकात की. मोदी ने कारोबारियों से बात करते हुए कहा कि भारत में कारोबार के अवसरों की कमी नहीं है. उन्होंने भारत को अवसरों की धरती बताते हुए कारोबारियों को भारत आने का न्योता दिया और भारत-कतर संबंधों में वहां के शासकों के योगदान की प्रशंसा की.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

मोदी ने कहा, ‘भारत अवसरों की धरती है. मैं यहां निजी रूप से आपको इस अवसर का लाभ उठाने के लिए निमंत्रण देने आया हूं.’ प्रधानमंत्री ने कतर में बिजनेस लीडर्स से कहा, ‘भारत के 80 करोड़ युवा हमारी ताकत है. इन्फ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड करना, उसका विस्तार करना और मैन्युफैक्चरिंग हमारी प्राथमिकताएं हैं. भारत स्मार्ट सिटीज, मेट्रो, अर्बन वेस्ट मैनेजमेंट, की दिशा में तेजी से काम कर रहा है. जाहिर है इससे लोगों की जिंदगी बदलेगी.’ प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि आप लोग चाहें तो रेलवे, एग्रो प्रॉसेसिंग और सोलर एनर्जी जैसे क्षेत्रों में इन्वेस्ट कर सकते हैं.’
 
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर कहा, ‘कारोबार पहले. प्रधानमंत्री की कतर के कारोबारियों के साथ बैठक.’ मोदी ने दोहा में बिजनेस लीडर्स के साथ राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया. प्रधानमंत्री मोदी ने कारोबारियों को संबोधित किया. भारत, कतर कारोबारी संबंधों को बढ़ावा देने के लिए कतर के अमीर की भूमिका की प्रशंसा की.
 
पीएम मोदी शनिवार रात को दोहा में चिकित्सीय कामगारों से मिले थे. उन्होंने भारतीय कामगारों को आश्वासन दिया कि वह खाड़ी देशों के नेताओं के साथ होने वाली अपनी बातचीत के दौरान उनकी समस्याओं को उठाएंगे. दोहा के एक चिकित्सा शिविर में भारतीय कामगारों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें भारतीय कामगारों और उन्हें यहां लाने वाली कंपनियों को आने वाली दिक्कतों का ज्ञान है.
 
बता दें कि मोदी इस वक्त पांच देशों के विदेशी दौरे पर हैं. 4 जून को मोदी सबसे पहले अफगानिस्तान गए थे, यहां उन्होंने इंडिया-अफगान फ्रेंडशिप डैम का उद्घाटन किया था. शनिवार की शाम को मोदी कतर के लिए रवाना हो गए थे. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter