काबुल. अफगान तालिबान ने पहली बार अपने सरगना मुल्ला मंसूर के पाकिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले में मारे जाने की पुष्टि करते हुए मावलावी हैबतुल्ला अखुंदजादा को अपना नया प्रमुख नियुक्त किया है. बता दें कि मंसूर बीते शनिवार को अमेरिकी ड्रोन हमले में पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में मारा गया था. 
 
हालांकि उसकी मौत को लेकर पाकिस्तान लगातार संशय जताता रहा. उसका कहना था कि अमेरिकी हमले में टैक्सी चालक और एक अन्य की मौत हुई, मंसूर की नहीं. उसने अपनी जानकारी के बगैर हुए अमेरिकी ड्रोन हमले को देश की संप्रभुता का उल्लंघन करार देते हुए इसके लिए विरोध भी जताया था. 
 
तालिबान ने भी मंसूर के मारे जाने पर चुप्पी बरकरार रखी थी. लेकिन बुधवार को पहली बार उसने एक बयान में मंसूर के मारे जाने की बात स्वीकार करते हुए मावलावी को उसका उत्तराधिकारी नियुक्त करने की बात कही है. रिपोर्ट्स के अनुसार, तालिबान ने अपने बयान में मावलावी को जहां अफगान तालिबान का नया प्रमुख बताया है, वहीं मुल्ला उमर के बेटे मुल्ला मोहम्मद याकूब को मौजूदा उप प्रमुख सिराजुद्दीन हक्कानी के साथ तालिबान का संयुक्त उप प्रमुख नियुक्त करने की बात कही है. मंसूर जुलाई 2015 में मुल्ला मोहम्मद उमर के मारे जाने के बाद तालिबान का प्रमुख बना था.
 
अधिकारियों के अनुसार, मावलावी एक धार्मिक विद्वान है और तालिबान कोर्ट का पूर्व प्रमुख है. इसके अलावा अफगान तालिबान के उप नेताओं में से एक है. तालिबान की ओर से जारी अधिकांश फतवों के पीछे वही होता है. बयान में कहा गया, “हम सभी मुसलमानों से तीन दिनों (गुरुवार से) के लिए मरहूम अख्तर मंसूर की याद में शोक मनाने एवं उनके कामों व उनकी रूह के लिए दुआ करने की अपील करते हैं.” बयान में कहा, “हमारा जिहाद जारी रखेगा. हम अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात के सभी मुजाहिदीन से फिक्र न करने और अपने नये नेता का समर्थन करने की दरख्वास्त करते हैं.”