नई दिल्ली. इराक से लौटे हरजीत मसीह ने मीडिया के सामने आकर इस बातका दावा किया है कि ISIS ने जी भारतीयों को किडनैप किया था उन्हें जान से मार दिया है. हरजीत मसीह ने कहा कि आईएस ने हमें किडनैप किया था. हरजीत मसीह इराक में आईएस के कब्जे से भागा था. इराक के इरबिल के आतंकी संगठन ISIS के जरिए अगवा किए गए हरजीत मसीह भारत लौट आया है.
 
हरजीत का कहना है कि हमारे साथ 40 भारतीय और 50 बांग्लादेश थे. हरजीत मसीह का कहना है कि ISIS ने किडनैप करने के बाद हमें दूसरे समूह के हवाले कर दिया. हरजीत मसीह का कहना है कि आतंकवादी अपनी गाड़ी में सब को बैठाकर ले गए. जिस बिल्डिंग में रखा है वहां हमला हुआ. हरजीत का कहना है कि जो 40 भारतीय थे बहुत कम ही मुमकिन है कि कोई जिंदा बचा होगा. मसीह ने कहा कि हम लोगों को एक पहाड़ पर ले गए और लाइन में खड़ा करके सबको गोली मार दी. आईएस ने हम सभी पर लगातार दो तीन मिनट तक फायरिंग की. मेरे पैर में भी गोली लग गई थी. हरजीत ने कहा कि हमने इसके बाद आवाज़ दी, लेकिन मुझे कोई आवाज़ नहीं मिली. मैं वहां से भाग निकला.
  
सुषमा स्वराज ने कहा कि सरकार किसी भी कोशिश में कमी नहीं कर रही है. अभी हमारे पास 8वां सबूत आया है. मैं अभी भी अपना तलाश जारी रखूंगी. मुझे अभी भी हरजीत मसीह के बयान पर भरोसा नहीं है. भगवान पर भरोसा रखो और सरकार पर भरोसा रखो. उधर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने सरकार से पूछा है कि अगर अगवा भारतीय जिंदा हैं तो सरकार सबूत पेश करे .

IANS