लंदन. किंगफिशर कंपनी के मालिक और बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपये न लौटाने वाले विजय माल्या भारत लौटना चाहते हैं. अंग्रेजी अखबार संडे गार्जियन को दिए इंटरव्यू में विजय माल्या ने कहा, “मैं दिल से भारतीय हूं और लौटना चाहता हूं लेकिन मुझे संदेह है कि वहां मुझे अपनी बात रखने का उचित मौका दिया जाएगा. मुझे पहले ही क्रिमिनल के रूप में पेश किया जा चुका है. मुझे नहीं लगता कि यह वक्त सही है.”
 
माल्या ने ट्वीट कर कि वे किसी से बात नहीं करना चाहते लेकिन उन्होंने अखबार गार्जियन को इंटरव्यू दिया. इसमें उन्होंने कहा कि अपने मित्र के साथ निजी यात्रा के कारण देश छोड़ा मगर लोगों ने समझा कि मैंने इतने बड़े लोन से बचने के लिए देश छोड़ दिया. मेरे खिलाफ पिछले साल ही लुकआउट नोटिस जारी किया गया था. लेकिन मैं भागा नहीं हूं और मुझे एक अपराधी की तरह क्यों पेश किया गया है?
 
क्या है मामला?
बता दें कि माल्या दो मार्च को ब्रिटेन चले गए थे जिसकी की जानकारी अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में दी थी. दरअसल माल्या की कंपनी किंगफिशर ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया समेत 17 बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपये का ऋण लिया हुआ है.
 
पैसा डूब जाने के डर से बैंकों ने माल्या के देश से बाहर न जाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की. याचिका में कहा गया कि माल्या डेब्ट रिकवरी ट्रिब्यूनल यानी DRT में पेश होने के लिए जमानत राशि जमा कराएं और DRT जल्द इस मामले की सुनवाई पूरी करे.