म्यांमार. लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू की म्यांमार की राष्ट्रपति बनने की रेस से बाहर हो गई हैं. आंग सान सू की पार्टी नैशनल लीग फोर डेमोक्रेसी (एनएलडी) ने उनके खास विश्वासपात्र ह्तिन क्यॉ को राष्ट्रपति के लिए नामांकित किया है. इकनॉमिक्स से ग्रैजुएट 69 साल के ह्तिन क्यॉ फिलहाल सू की चैरिटेबल फाउंडेशन चलाते हैं. वह कभी आंग सान सू की के ड्राइवर थे. अब वह म्यांमार के राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं.
 
म्यांमार में जल्द होने वाला है राष्ट्रपति चुनाव
 
म्यांमार की संसद जल्द ही नया राष्ट्रपति चुनने जा रही है. इस चुनाव में सबसे प्रत्याशित उम्मीदवार की भागीदारी नहीं होने जा रही है. आंग सान सू की नैशनल लीग फोर डेमोक्रेसी (एनएलडी)काफी समय तक बहुमत में रही है. कई बार सू को अंडर हाउस अरेस्ट भी रखा गया. उन्हें देश के सबसे ऊंचे पद की रेस में शामिल होने से रोक दिया गया है.
 
सू की की नैशनल लीग फोर डेमोक्रेसी के निचले सदन के एक सांसद क्हिन सान ह्लांग ने कहा, ‘एनएलडी की ओर से मैं यू ह्तिन क्यॉ का नाम प्रस्तावित करता हूं.’ एनएलडी उच्च सदन के लिए भी एक अन्य प्रत्याशी को नामांकित करेगी. सू की ने स्पष्ट रुप से कहा है कि सेना के बनाए हुए विधान में अपने ऊपर लगे प्रतिबंध के बावजूद वह देश के शासन-प्रशासन में प्रमुख भूमिका निभाएंगी.
 
क्यों आंग सान सू की म्यांमार की राष्ट्रपति चुनाव से है बाहर ?
 
2008 में संविधान ड्राफ्ट हुआ था
 
सत्ताधारी मिलिटरी जुंटा ने 2008 में जिस संविधान को ड्राफ्ट किया था उसकी एक धारा के मुताबिक आंग सान सू अपने लोगों को इस पद पर नहीं बैठा पाएंगी.
 
सू की के दोनों बेटों की ब्रिटिश नागरिकता
 
म्यामांर के संविधान में प्रावधान किया गया है कि जिनके बच्चों की दूसरे देश की नागरिकता है वे देश के राष्ट्रपति नहीं बन सकते. आंग सान सू की के दोनों बेटों की ब्रिटिश नागरिकता है.
 
ह्तिन क्यॉ कौन है ?
 
राष्ट्रपति के इस पद के लिए आंग सान सू ने अपने करीबी दोस्त और ऑक्सफोर्ड ग्रैजुएट के साथ लंबे समय से एनएलडी के मेंबर रहे ह्तिन क्यॉ को नामांकित किया है. 69 साल के ह्तिन क्यॉ आंग सान सू की के सबसे करीबी विश्वासपात्र रहे हैं. वह उन लोगों में से हैं जो अंडर हाउस अरेस्ट के दौरान सू की से बेरोकटोक मिल सकते थे.
 
इन्होंने इंग्लैंड में आंग सान सू की के पति के साथ पढ़ाई की है. संसद के दोनों अपर और लोवर हाउस में मिलिटरी की तरफ से वाइस प्रेजिडेंट के लिए नामांकन हुआ है. तीन कैंडिडेट्स में से एक को राष्ट्रपति चुना जाएगा. अपर हाउस में हेनरी वान थियो को नामांकित किया गया है. दूसरी तरफ मिलिटरी ने एयर फोर्स सदस्य खिन ऑन्ग म्यिंट को नामांकित किया है.
 
एनएलडी के पास प्रचंड बहुमत
 
सू की एनएलडी के पास प्रचंड बहुमत है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि एनएलडी के कैंडिडेट क्यॉ आसानी से इस पद पर निर्वाचित हो जाएंगे. हालांकि एनएलडी के पास दोनों सदनों में पर्याप्त बहुमत है. मिलिटरी के पास 25 पर्सेंट सीटें हैं. इसने सत्ताधारी पार्टी की ताकत को कम कर दिया है ताकि वह संविधान में संशोधन न कर सके.