इस्लामाबाद. पाकिस्तान की एक अदालत ने लाल मस्जिद के मौलवी अब्दुल राशिद गाजी की  हत्या के एक मामले में  पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के खिलाफ गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.
 
एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक सत्र न्यायाधीश ने शनिवार को वारंट जारी किया और प्रशासन को 2007 में लाल मस्जिद में हुई सैन्य कार्रवाई के दौरान कट्टरपंथी गाजी अब्द़ुल रशीद की हत्या के मामले में मुशर्रफ को 16 मार्च को अदालत में पेश करने का निर्देश दिया. अदालत ने मामले में पेश होने के लिए स्थायी छूट देने की मुशर्रफ की याचिका को भी नामंजूर कर दिया है. पूर्व राष्ट्रपति मामले की 55 सुनवाइयों के दौरान कभी अदालत में पेश नहीं हुए. 
 
लाल मस्जिद की तीन दिवसीय सैन्य घेराबंदी में छात्रों और सैन्यकर्मियों सहित कई लोगों की जान चली गई थी. मौलवी के परिवार ने 2007 में सैन्य अभियान के दौरान राशिद की हत्या में संलिप्तता के लिए 2013 में पूर्व शासक के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. 2007 के अभियान के दौरान मुशर्रफ के आदेश पर सैन्य कमांडो मस्जिद में घुसे थे. साल 1999 से 2008 के बीच पाकिस्तान पर शासन करने वाले पूर्व सैन्य प्रमुख पर अदालतों में कई मामले चल रहे हैं.