लाहौर. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि भारत के पठानकोट में हुए आतंकवादी हमले ने भारत और पाकिस्तान के बीच चल रही शांति प्रक्रिया पर असर डाला है. शरीफ ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत सही दिशा में चल रही थी, लेकिन पठानकोट हमले ने बातचीत की प्रक्रिया को पटरी से उतार दिया. रेडियो पाकिस्तान ने यह जानकारी दी है.
 
इस घटना के बाद भारत और पाकिस्तान की सरकार ने दोनों देशों के बीच होने वाली राजनयिक वार्ता को जनवरी के अंत तक टाल दिया है. 
 
पाकिस्तान के अब बैन किए गए संगठन जैश ए मुहम्मद के 6 आतंकवादियों ने पंजाब के पठानकोट में भारतीय वायु सेना अड्डे पर हमला कर 7 सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी थी. बाद में सभी 6 आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया था.
 
पाकिस्तान के अखबार डेली टाइम्म ने अपने संपादकीय में लिखा था कि नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा किए गए पहल के बाद जैसे ही दोनों देशों के बीच बातचीत होने वाली थी. पठानकोट हमले की घटना ने उस पर पानी फेर दिया है.
 
अखबार ने लिखा है कि 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले जिसमें 166 लोग मारे गए थे और जिसमें कई विदेशी भी शामिल थे. उसके बाद जिस तरह से भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध बिगड़ गए थे. वैसे ही हालात पठानकोट हमले के बाद देखने को मिल रहा है.