नई दिल्ली.  मच्छरों के काटने से पैदा होने वाले वायरस ज़ीका का खतरा ब्राज़ील में होने वाले ओलिंपिक पर भी पड़ सकता है. ब्राजील में छह महीने बाद ओलिंपिक का आयोजन होना है. बता दें कि यह वायरस फीफा वर्ल्ड कप के दौरान ब्राजील पहुंचा है. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या ब्राजील समय रहते जीका वायरस पर लगाम लगा सकेगा और अगर नहीं तो इससे ओलिंपिक का आयोजन किस तरह प्रभावित होगा.
 
फीफा वर्ल्ड कप के दौरान यह वायरस पहुंचा ब्राजील
ब्राजीली शोधकर्ताओं ने साफ किया है कि उनके देश में जीका वायरस 2014 फीफा वर्ल्ड कप के दौरान पहुंचा. ऐसा कहा जा रहा है कि जीका वायरस ब्राजील में कुछ प्रशांत द्वीपों से पहुंचा, जहां यह काफी समय से सक्रिय था. तब से लेकर आज तक ब्राजील में जीका से 15 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं. हाल के दिनों में ब्राजील में कई बच्चे असामान्य आकार से सिर के साथ पैदा हुए, जो माइक्रोसेफेली का शिकार हैं.
 
महिला खिलाड़ी और दर्शक आने से कर सकते हैं इंकार
 
एक रिपोर्ट के मुताबिक जीका वायरस अगले 12 महीनों में अमेरिकी महाद्वीप में 40 लाख लोगों को अपनी चपेट में ले लेगा. ब्राजील में इस वायरस के कारण अब तक 4000 बच्चे असामान्य आकार के सिर के साथ पैदा हो चुके हैं. रियो को इस बात की चिंता है कि ओलिंपिक में जीका के कारण महिला खिलाड़ी और दुनियाभर से आने वाली महिला दर्शक ब्राजील आने से इंकार न कर दें.
 
बड़ी संख्या में अमेरिकी महिला एथलीट और दर्शक रियो पहुंचेंगे
 
इस आयोजन में  एथलीट की संख्या 2,00,000 तक बताई जा रही है. हर देश के एथलीट इसमें आएंगे. अमेरिका सहित दुनियाभर की चिंता यह है कि अगर जीका वायरस से प्रभावित कोई सक्रिय संक्रमण वाला खिलाड़ी या फिर दर्शक रियो से अपने देश लौटेगा, तो फिर वह अपने देश में जीका के रोगजनकों को फैलाने का कारण बन सकता है. ऐसे में ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाले सभी देशों में इस आशंका को लेकर आत्ममंथन चल रहा है.
 
बता दें कि अगस्त में जब ओलम्पिक उद्घाटन समारोह होगा, तब वहां सर्दियां शुरू हो चुकी होंगी और सर्द मौसम में एडीज मच्छरों का प्रजनन कम हो जाता है और ऐसे में सरकार अपने सार्थक प्रयासों के दम पर इससे होने वाले संक्रमण पर काफी हद तक रोक लगा सकती है.
 
ब्राजील के अलावा अमेरिका, कनाडा, मेक्सिको इसे लेकर सबसे अधिक चिंतित हैं क्योंकि उन्हें डर है कि अंतरराष्ट्रीय आवागमन के कारण सबसे पहले यह वैसे जगह होंगे जहां इसकी फैलने की संभावना है.