पेशावर. आतंकवादियों ने एक बार फिर पाकिस्‍तान में अपने नापाक इरादों को अंजाम दिया है. आतंकियों ने चारसड्डा इलाके में स्थित बाचा खान यूनिवर्सिटी में बुधवार सुबह 9 बजे हमला कर दिया. आतंकियों की तादाद 8 से 10 बताई जा रही है. कैंपस में मौजूद छात्रों, शिक्षकों और अन्य लोगों को बचाने के लिए सुरक्षाबल रेस्क्यू अभियान चला रहे हैं.
 
स्थानीय पुलिस के अनुसार अबतक 4 आतंकी मारे जा चुके हैं. बताया जा रहा है कि यूनिवर्सिटी के अन्दर कम से कम 3000 छात्र मौजूद हैं. आतंकी हॉस्टल और क्लासों में छात्रों और टीचर्स पर गोलियां चला रहे हैं. 
 
60 से 70 छात्रों के मारे जाने की खबर
बताया जा रहा है कि यूनिवर्सिटी के अन्दर कम से कम 3000 छात्र हैं. आतंकी कोहरे की आड़ में कैंपस के पीछे के रास्ते से घुसे थे. यूनिवर्सिटी में आतंकियों ने एक केमिस्ट्री के एक प्रोफेसर समेत 60 से 70 लोगों के मारे जाने की खबर आ रही है. हालांकि अभी भी फायरिंग की अवाजें और धमाके सुनाई दे रहे हैं. यूनिवर्सिटी में छात्रों के साथ प्रोफेसर और गेस्ट भी मौजूद थे.
 
टॉयलेट में छिपकर बचाई जान
बचकर बाहर आए एक छात्र ने बताया कि उसने टॉयलेट में छिपकर अपनी जान बचाई. छात्र ने बताया कि कैंपस के अंदर चारो तरफ से गोलाबारी की अवाज सुनाई दे रही तो ये कहना मुश्किल है कि कितने आतंकी अंदर है. वहीं कैंपस में कुछ लोग छत पर छुपे हैं तो कोई कमरे में. अंदर बेहद भयावह माहौल है. कैंपस के बाहर बड़ी संख्या बच्चों के परिजन भी इकट्ठा हो रहे हैं. हालांकि सुरक्षाकारणों से उन्हें लगातार जाने और हटाने की कोशिश की जा रही है. हमले के बाद पेशावर के सभी अस्पतालों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है.
 
सुबह 9 बजे से कर रहे हैं फायरिंग
स्थानीय मीडिया के मुताबिक, यूनिवर्सिटी में सुबह 9 बजे तीन आतंकी दाखिल हुए. फिर उन्होंने यूनिवर्सिटी कैंपस में ही फायरिंग और धमाके करना शुरू कर दिया. घटना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में सुरक्षा बल भी पहुंच गए हैं. फंसे हुए लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए पुलिस और सेना के जवान काम कर रहे हैं.
 
बाचा खान की मनाई जा रही थी पुण्यतिथि 
बता दें कि यूनिवर्सिटी में बुधवार को बाचा खान की पुण्यतिथि मनाई जा रही थी. 1988 में उनका निधन हो गया था और वह ताउम्र उदार-गांधीवादी रहे. यूनिवर्सिटी पर हमले की पहले से ही आशंका थी इसलिए कल रात से ही यहां हाई अलर्ट था. 
 
तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने ली जिम्मेदारी
बाचा खान यूनिवर्सिटी पर हुए हमले कि जिम्मेदारी तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने ली है. इससे पहले भी पाकिस्तान में हुए कई आतंकी हमले में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का नाम सामने आया था.