लाहौर. पंजाब प्रांत के ओकारा जिले में 15 साल के मोहम्मद अनवर ने खुद को न सिर्फ ईशनिंदा का दोषी मान लिया, बल्कि अपना हाथ भी काट दिया. पुलिस ने इस मामले में एक इमाम को गिरफ्तार किया है. उस पर लड़के को हिंसा के लिए भड़काने का आरोप है. पाकिस्तान में एक इमाम को आतंकवाद से जुड़ी धाराओं में गिरफ्तार किया गया है.
 
इमाम को पेश किए हाथ
स्थानीय पुलिस स्टेशन के प्रमुख नौशेर अली ने बताया कि हुजरा शाह मुकीम कस्बे में पांच दिन पहले इमाम शब्बीर अहमद महफिल-ए-मिलाद को संबोधित कर रहा था. इमाम ने कहा, ”जो लोग पैगंबर मोहम्मद को प्यार करते हैं, वो हमेशा उनकी प्रार्थना करते हैं.’ वो अपने हाथ उठाएं, फिर इसके बाद इमाम ने पैगंबर को पसंद न करने वालों से हाथ ऊपर उठाने के लिए कहा. मोहम्मद अनवर नाम के इस बच्चे ने सवाल गलत सुन लिया था और अपना हाथ खड़ा कर दिया. अहमद ने अनवर को खड़ा करके उस पर ईशनिंदा का आरोप जड़ दिया. लिहाजा, अनवर अपने घर गया और वह हाथ काट डाला जो उसने मस्जिद में उठाया था. इसके बाद हाथ को एक थाली में रखा और उसे इमाम को पेश कर दिया. 
 
मां-बाप ने की बेटे की तारीफ
यहां हैरान करने वाली बात यह है इस घटना से दुखी होने के बजाये लड़के के माता-पिता और उसके पड़ोसियों ने ऐसा करने पर उसकी तारीफ की. पुलिस के मुताबिक, यह घटना पंजाब प्रांत की राजधानी लाहौर से करीब 125 किलोमीटर दूर हुजरा शाह मुकीम जिले के एक गांव में चार दिन पहले हुई. नौशेर ने कहा कि उन्होंने एक वीडियो देखा है जिसमें गांव के लोग सड़क पर अनवर का अभिनंदन कर रहे हैं और उसके माता-पिता गर्व से फूले नहीं समा रहे हैं.