वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बुधवार को अपना अंतिम ‘स्टेट ऑफ यूनियन’ भाषण दिया. उन्होंने अपने भाषण में हिंसक घटनाओं की कड़ा विरोध किया. उन्होंने दुनियाभर में बढ़ते आतंकवाद को लेकर भी चिंता जताई और पाकिस्तान जैसे देश को आतंकवादियों के लिए के स्वर्ग बताया.
 
उन्होंने कहा दुनिया के कई हिस्सों जैसे मध्य पूर्व, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, अफ्रीका और एशिया के कई देशों में आतंकवादी घटनाओं को अंजाम दिया जाता है. इनमें से कुछ देश नए आतंकवादी संगठनों के लिए ‘आतंकवाद का स्वर्ग’ बनकर सामने आए हैं.
 
‘ISIS मुस्लिमों का प्रतिनिधित्व नहीं करता’
आतंकवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि अगर आंतकवाद अमेरिका के पीछे पड़ेगा तो अमेरिका भी आतंकवाद के पीछे पड़ेगा. इतिहास गवाह है कि भले ही थोड़ी देर हुई हो लेकिन हमने आतंकवाद को जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि हमारी सेना दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सेना है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि जब राजनेता मुस्लिमों को अपमानित करते हैं और मस्जिदें ढहा दी जाती हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि मुस्लिम दोषी हैं , यह पूरी तरह से गलत है. आईएसआईएस मुस्लिमों का प्रतिनिधित्व नहीं करता है, यह एक कट्टरवादी संगठन है.
 
सबसे मजबूत है अमेरिकी अर्थव्यवस्था
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह पूरी तरह से एक कल्पना है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था का पतन हो रहा है. अमेरिकी अर्थव्यवस्था अभी विश्व की सबसे अधिक स्थिर अर्थव्यवस्था है. उन्होंने न्यूनतम मजदूरी को बढ़ाने की जरूरत पर बल दिया.
 
बेरोजगारी दर को आधा करने का दावा
बराक ओबामा बोले कि दुनिया के किसी और देश के मुकाबले हमने कार्बन उत्सर्जन में भारी कमी की है. हमने 14 लाख से अधिक नौकरियां दीं, बेराजगारी दर को आधा किया है. हम अपने भविष्य पर ध्यान देना चाहते हैं. हर अमेरिकी छात्र के लिए शिक्षा तक पहुंच सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है. सामाजिक सुरक्षा हमेशा से अहम रही है और हम इसे और मजबूत बनाएंगे. उन्होंने सामाजिक सुरक्षा के पैमानों को और मजबूत बनाए जाने की जरूरत भी बताई.