नई दिल्ली. केरल में समुद्री लुटेरे समझकर दो मछुआरों की जान लेने के आरोपी दो इतालवी मैरीन्स में एक मैरीन मासिमिलियानो लातोरे इटली से वापस नहीं लौटेगा. 2014 में हर्ट अटैक के बाद भारत सरकार ने इलाज के लिए एक निर्धारित समय के लिए उसे इटली जाने की इजाजत दी थी जो इस शुक्रवार यानी 15 जनवरी को खत्म हो रही है.
 
इटली की संसद की रक्षा समिति के चेयरमैन निकोला लातोरे ने कहा, “मासिमिलियानो लातोरे भारत वापस नहीं जाएगा. दूसरी बात ये कि हम दूसरे मैरीन सल्वाटोर गिरोन को भी भारत से वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं.” लातोरे को भारत ने इलाज के लिए इटली जाने दिया था लेकिन गिरोन को नई दिल्ली के ही इटली दूतावास में रखा गया है और भारत छोड़ने की इजाजत नहीं दी गई है.
 
पिछले साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने इटली के दोनों मैरीन पर चल रहे मामलों को तब तक के लिए सस्पेंड कर दिया था जब तक कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट इस बात का फैसला नहीं कर देता कि दोनों मैरीन पर किस कोर्ट में मुकदमा चलेगा. इस मसले पर आज विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात भी की है.