नई दिल्ली. भारत की ओर से कड़ी आपत्ति के बाद श्रीलंका ने पाकिस्तान से जेएफ-17 थंडर फाइटर एयरक्राफ्ट के सौदे को रद्द कर दिया है. एक अंग्रेजी समाचार पत्र में छपी खबर के अनुसार, बीते मंगलवार को श्रीलंका ने पाकिस्तान से लड़ाकू विमान खरीदने के लिए करार किया था. यह सौदा 40 करोड़ डॉलर यानि 2675 करोड़ रुपये का था. एक विमान की कीमत 35 मिलियन डॉलर है. 
 
भारत ने विमान के बताए नकारात्मक पहलू
 भारत ने कुछ सप्ताह पहले कूटनीतिक कदम के तहत श्रीलंका को बताया था कि जेएफ-17 थंडर एयरक्राफ्ट्स क्यों नहीं खरीदना चाहिए. इसमें प्लेन के नकारात्मक तकनीकी पक्ष को भी बताया गया था. श्रीलंका को इस ओर भी ध्यान दिलाया गया कि देश की रक्षा जरूरतों के तहत फाइटर प्लेंस की आवश्यकता नहीं है. बताया कि जेएफ-17 विमान में जो रूसी इंजन लगे हैं वे बहुत अच्छे नहीं हैं. चीन ने भी इन विमानों का इस्तेमाल करना बंद कर दिया है.
 
श्रीलंका में भी रक्षा सौदे पर उठे थे सवाल
श्रीलंका में भी 400 मिलियन डॉलर के इस रक्षा सौदे पर सवाल उठे थे. भारत की तरफ से कड़ी आपत्ति उन संभावित कारणों में से एक हो सकती है जिसके कारण श्रीलंका ने फिलहाल इस सौदे को रद्द कर दिया है.
 
भारत के लिए क्यों है चिंता
अगर यह समझौता पूरा हो जाता तो चीन या पाकिस्तान को श्रीलंका में मेंटनेंस और ट्रेनिंग के लिए जमने का मौका मिल सकता था. इससे श्रीलंका की पाकिस्तान और चीनी फौज से नजदीकी बढ़ती और यह भारत के लिए चिंता का विषय था. ये जेएफ-17 थंडर विमान श्रीलंका के पुराने पड़ चुके इजरायली केफिर्स या मिग 27 विमानों की जगह लेते. 
 
बता दें कि पाक पीएम नवाज शरीफ और श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने मंगलवार को कुछ समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे लेकिन उनमें फाइटर प्लेन सौदा नहीं था.