काठमांडू. नेपाल और भारत के बीच रिश्तों में फिर से मिठास देखी जा रही है. जानकारी के अनुसार नेपाल के नए पीएम केपी शर्मा ओली अपने विदेश दौरे पर पहले चीन जाने वाले थे लेकिन उन्होंने पहले भारत आने का फैसला किया है.
 
दोनो देशों के बीच मधेसियों को लेकर तनाव देखा जा रहा था लेकिन उनकी मांगों के लिए संविधान में संसोधन रिश्तों एक अच्छी पहल मानी जा रही है. 
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुवार की सुबह पीएम नरेंद्र मोदी ने पीएम ओली को भारत आने के न्यौता दिया था जिसे उन्होंने स्वीकार लिया है. नेपाली प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार प्रमोद दहल ने बताया कि पीएम मोदी ने ओली को भारत आने के लिए आमंत्रित किया है और यह न्यौता स्वीकार कर लिया गया है. 
 
बता दें कि इससे पहले कहा जा रहा था कि औली पहले चीन जाएंगे लेकिन काठमांडू के अधिकारियों ने कहा कि औली चीन दौरे से पहले भारत की यात्रा करेंगे.