सोल. जापान और साउथ कोरिया के बीच सेकंड वर्ल्ड वॉर के समय से जारी ‘कम्फर्ट वुमन’ विवाद सोमवार को खत्म हो गया. दो लाख से ज्यादा महिलाओं को सेक्स स्लेव बना कर रखने के लिए जापान ने माफी मांग ली है. उस दौर की 46 महिलाएं कोरिया में अभी जिंदा हैं. उनके लिए जापान ने एक अरब येन (करीब 55 करोड़ रुपए) की मदद की पेशकश की है.
 
क्या है मामला
बता दें कि जापानी सैनिकों ने जिन महिलाओं को सेक्स स्लेव बनाया था, उनमें ज्यादातर कोरियाई थीं. बाकी महिलाएं चीन, फिलीपींस, इंडोनेशिया और ताइवान की थीं. इस मुद्दे को लेकर साउथ कोरिया और जापान के बीच तनाव था, जो अब खत्म हो गया है. साउथ कोरिया के विदेश मंत्री युन ब्युंग-से ने कहा कि यह समझौता पलटा नहीं जा सकेगा.
 
जापानी विदेश मंत्री फूमियो किशिदा ने कहा कि यह मुआवजा नहीं है. यह उन महिलाओं को उनका सम्मान लौटाने की कोशिश है. इससे उनके दिलों के घाव भी भरे जा सकेंगे. कम्फर्ट वुमन का मुद्दा जापानी सैनिकों की वजह से पैदा हुआ था. जापान सरकार उसकी जिम्मेदारी महसूस करती है. 
 
जापानी पीएम ने भी मांगी माफ़ी 
जापान के विदेश मंत्री ने कहा, ”जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने पीड़ितों से दिल से माफी मांग ली है. मैं समझता हूं, यह समझौता ऐतिहासिक और अहम है.” जापान बुजुर्ग हो चुकीं ‘कम्फर्ट वुमन’ के लिए एक अरब येन देगा, जिनका इस्तेमाल कोरिया सरकार करेगी. दोनों देश इस मामले में अब एक-दूसरे की आलोचना नहीं करेंगे.