मॉस्को. रूस ने सीरिया के आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट(आईएसआईएस) के ठिकानों पर हमले शुरू कर दिए है. पहली बार 2400 किमी दूर कैस्पियन सागर से रूस के द्वारा सबमरीन मिसाइल से हमला किया गया है. हमले के बाद रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने कहा कि यह हमला ही काफी है, उनके खिलाफ एटमी हमले की जरूरत नहीं पड़ेगी.
 
 
रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु के अनुसार मिसाइल सीरिया के रक्का शहर स्थित आईएस के दो बड़े ठिकाने को निशाना बनाकर दागी गईं हैं. उन्होंने बताया कि कैलिबर मिसाइल को ‘रोस्तोवॉन डॉन’ सबमरीन से दागा गया है.
 
इसमें आईएस के कई ठिकाने, हथियार और तेल टैंकर तबाह हो गए है. साथ ही पनडुब्बी से मिसाइल दागने की प्लानिंग के बारे में रूस ने पहले ही इजरायल और अमेरिका को जानकारी दे दी थी. रूसी एयरफोर्स ने तीन दिन पहले सीरिया में 300 हवाई हमले किए थे.
 
तुर्की के आस-पास भेजीं क्रूज मिसाइलें
आईएसआईएस के ठिकानों पर हमले के अलावा रूस ने तुर्की से निपटने के लिए क्रूज मिसाइलें भेजी हैं. बता दें कि तुर्की ने रशियन एयरफोर्स के जेट को मार गिराया था. अब इस इलाके में मिसाइल क्रूजर की तैनाती होने से तुर्की रशियन एयरफोर्स के खिलाफ आसानी से कार्रवाई नहीं कर पाएगा.
 
अगर तुर्की रशियन एयरफोर्स को रोकने की कोशिश करता है, तो रूस का मिसाइल क्रूजर एक्शन में आएगा. वह रशियन फाइटर प्लेनों को कवर देगा. सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकियों के खिलाफ चलाए जा रहे ऑपरेशन में शामिल जेट प्लेनों को भी इस क्रूजर से सिक्युरिटी कवर मिलेगा.