नई दिल्ली. राधे मां, आसाराम और रामपाल जैसे धर्मगुरु तथाकथित अपनी करनी के चलते कानून के शिकंजे में आए. किसी पर मुकदमा चल रहा है, तो किसी पर एफआईआर दर्ज हो गई है.
 
ऐसे में अगर ये कहा जाए कि इन लोगों को हिंदू धर्म को बदनाम करने के लिए साजिश के तहत फंसाया गया, तो ये कितना जायज है? आसाराम पर नाबालिग से रेप करने का आरोप है.वहीं रामपाल पर हत्या व हिंसा भड़काने का आरोप है. रामपाल के करौंथा आश्रम के बाहर 2006 में हुई हिंसा में सोनू नाम के युवक की हत्या हुई थी, इसी मामले में रामपाल समेत उसके तकरीबन तीन दर्जन समर्थक सह-आरोपी है.
 
वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरी बहस: