जम्मू. जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में आज सुरक्षा बलों को एक पाकिस्तानी आतंकवादी को जिंदा पकड़ने में कामयाबी मिली है. उस्मान उर्फ़ नवेद नाम के इस आतंकी ने सुबह उधमपुर के नारसू में नेशनल हाइवे पर बीएसएफ़ की एक बस पर अंधाधुंध फायरिंग की थी. इस हमले में बीएसएफ के दो जवान शहीद हो गए और 11 जवान घायल हो गए हैं. 

पाकिस्तान के फैसलाबाद के गुलाम मुस्तफाबाद इलाके का रहने वाला मोहम्मद नावेद, जिसकी उम्र करीब 20 साल मानी जा रही है, बुधवार को जिंदा पकड़ा गया. उसने एक अन्य आतंकवादी के साथ मिलकर पहले सीमा सुरक्षा बल (BSF) के एक काफिले पर हमला किया और फिर एक स्कूल में पांच लोगों को बंधक बना लिया था. बंधक बनाए गए पांच लोगों में से दो ने उसे जिंदा पकड़ने में गजब के साहस का परिचय दिया.

बंधक बने लोगों ने ही आतंकी को दबोचा
उधमपुर के उपायुक्त शाहिद इकबाल चौधरी ने बताया, ‘उसे उन्हीं लोगों ने पकड़ा, जिन्हें उसने बंधक बना रखा था. कुछ वीडीसी सदस्यों के अलावा बंधक बनाए गए दो लोगों ने अभियान के दौरान उसकी गिरफ्तारी में मदद की.’ उधमपुर में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बीएसएफ के एक काफिले पर हमले में बल के दो जवान मारे गए, जबकि 11 कर्मी जख्मी हो गए. इस हमले में शामिल एक अन्य आतंकवादी को सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया. नावेद ने उसकी पहचान नोमान उर्फ मोमिन के तौर पर की जो पाकिस्तान के भावलपुर का रहने वाला था.

नहीं रुकेगी पाकिस्तान से बातचीत
जम्मू-कश्मीर में बुधवार को आतंकवादी हमले और एक पाकिस्तानी आतंकवादी के पकड़े जाने के बाद भी भारत-पाकिस्तान के साथ प्रस्तावित राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) स्तर की वार्ता पर आगे बढ़ेगा. आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ‘हम 23-24 अगस्त को दोनों देशों के एनएसए के बीच बातचीत करने के अपने प्रस्ताव को लेकर अब भी इस्लामाबाद से जवाब का इंतजार कर रहे हैं.’

गुरदासपुर में हालिया आतंकी हमले और उधमपुर की बुधवार की घटना से ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि भारत आगामी मुलाकातों के कार्यक्रमों को टाल सकता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच पिछले महीने उफा में मुलाकात के दौरान यह फैसला किया गया था कि दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बैठक करेंगे.