नई दिल्ली. राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और ईडी के भगोड़े ललित मोदी के पारिवारिक रिश्तों का खुलासा अब राजनीति के ऐसे डेली सोप में बदल चुका है, जिसमें रोज़ खुलासे होते हैं, खुलासों की काट खोजी जाती है और फिर अगले दिन के ट्विस्ट का टीज़र आ जाता है. पहला खुलासा ये हुआ कि वसुंधरा राजे ने ईडी के भगोड़े को लंदन में पनाह दिलाने के लिए गवाही दी. बीजेपी ने इस खुलासे के सबूत मांगे और कांग्रेस ने जाने कौन-कौन से कागज ढूंढ निकाले. 

अब कांग्रेस किस्तों में दस्तावेज़ दिखाकर आरोप लगा रही है कि वसुंधरा राजे और ललित मोदी ने सरकारी महल हड़प लिया. बीजेपी जवाबी दस्तावेजों से इन आरोपों को झूठा बता रही है. कांग्रेस ने बीजेपी को घेरने के लिए महाराष्ट्र की मंत्री पंकजा मुंडे को भी घोटालों में लपेट लिया है. अब ये बड़ी बहस का मुद्दा है कि क्या वसुंधरा और पंकजा को बचाना बीजेपी के लिए मुश्किल हो रहा है ?