नई दिल्ली. 5 साल से ईडी के भगोड़े ललित मोदी 5 दिन पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के लिए सवाल बनकर सामने आए हैं. कांग्रेस ने सुषमा स्वराज पर आरोपों की बौछार की, तो जवाब में ललित मोदी ने अपने वकील को सामने किया और इस क्रॉसफायर में अचानक घिर गईं राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे.  

वसुंधरा राजे पर खुलासा हुआ कि उन्होंने भी 2011 में ललित मोदी की मदद की थी और उससे पहले ललित मोदी ने वसुंधरा के बेटे दुष्यंत सिंह की कंपनी के कौड़ियों के शेयर करोड़ों में खरीदे. सुषमा स्वराज पर जब आरोप लगा था, तब बीजेपी, संघ और सरकार तीनों उनकी ढाल बनकर सामने आ गए थे,

जबकि वसुंधरा राजे आरोपों की बौछार के बीच अकेली हैं. अब ये बड़ी बहस का मुद्दा है कि आखिर वसुंधरा राजे के मुद्दे पर बीजेपी हाईकमान खामोश क्यों है.? क्या बीजेपी ने सुषमा का बचाव और वसुंधरा से किनारा करने की तैयारी कर ली है? 
 इन सब सवालों के जवाब ढूंढने की करता ‘टुनाईट विद दीपक चौरसिया’