नई दिल्ली. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और बलूचिस्तान में मानवाधिकारों और पाक आर्मी की ज्यादतियों का मुद्दा उठाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के गले की नस दबा दी है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पीएम मोदी के बयान से बौखलाई पाकिस्तानी हुकूमत की तरफ बेसिरपैर की बयानबाजी शुरू हो गई. जबकि बलूच नेता और गिलगिट-बाल्टिस्तान की जनता उनका शुक्रिया कह रही है.
 
सवाल ये है कि पाकिस्तान के अत्याचार पर भारत आंखें क्यों बंद करे ? बड़ा सवाल ये भी है कि बलूचिस्तान और गिलगिट-बाल्टिस्तान के लोगों को उनका हक कैसे मिलेगा ? इसी मुद्दे पर आज होगी ‘बड़ी बहस’ सिर्फ इंडिया न्यूज पर