नई दिल्ली. पिछले दो साल में पाकिस्तान से बातचीत दो बार पटरी से उतरी, क्योंकि सरकार को पाकिस्तान हाई कमिश्नर और कश्मीर के अलगाववादियों की बातचीत मंजूर नहीं थी. फिर अब सरकार ने हुर्रियत वालों को पाकिस्तान के साथ मुलाकात और बातचीत को हरी झंडी क्यों दी? 
 
क्या ये अलगाववादियों के आगे सरकार का यू टर्न है? इंडिया न्यूज के खास शो टुनाइट विद दीपक चौरसिया में पेश है इसी मुद्दे पर बड़ी बहस.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो