नई दिल्ली. पिछले 6 दिनों से जेएनयू में देश विरोधी नारेबाज़ी पर पूरे देश में उबाल है. देशद्रोह के आरोप में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष की गिरफ्तारी के बाद पूरा विपक्ष केंद्र सरकार पर हमलावर है. जेएनयू और कई यूनिवर्सिटी के टीचर कह रहे हैं कि छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का केस चलाना गलत है, क्योंकि ये अभिव्यक्ति की आजादी का मामला है.

पुलिस कह रही है कि आरोपी छात्रों के खिलाफ देश विरोधी नारे लगाने के सबूत हैं, फिर भी यूनिवर्सिटी के टीचर्स और विपक्षी नेताओं को लग रहा है कि केंद्र सरकार एजेंडा के तहत जेएनयू और छात्रों पर हमला कर रही है.

अब ये बड़ी बहस का मुद्दा है कि जेएनयू में देश विरोधी बवाल पर हड़ताल क्यों ? क्या जेएनयू जाने पर राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए ?

वीडियो में देखें पूरा शो